शुक्रवार, 15 जुलाई 2011

गन्ना

चींटू – दादी, गन्ना खाओगी?



दादी- मैं नहीं खा सकती, मेरे दांत नहीं हैं.



चींटू – तो फिर मेरा यह गन्ना रखो, मैं खेलने जा रहा हूं. आकर खाऊंगा

कोई टिप्पणी नहीं:

एक टिप्पणी भेजें