बुधवार, 19 अक्तूबर 2011

चश्मा लगने के बाद मै पढ़ तो पाउँगा ना?

संता [डॉक्टर  बंता से] - डॉक्टर साहब! चश्मा लगने के बाद मै पढ़ तो पाउँगा ना?
डॉक्टर बंता - हाँ भाई  जरूर  पढ़ पाओगे.
संता - तब ठीक है, वर्ना अनपढ़ आदमी की जिंदगी भी कोई जिंदगी है क्या!

कोई टिप्पणी नहीं:

एक टिप्पणी भेजें