रविवार, 12 मई 2013

फिर से अपने देश को हमको

आंधी हो या तूफ़ान हो भ्रष्ट हो या बेईमान हो चाहे वह रिश्वतखोर हो या फिर कोई चोर हो हमें बचाना है इनसे अपने प्यारे भारत को करनी है अब हमें सफाई मार भगाना है इनको बहुत हो गया जंगलराज अब तो लाना है स्वराज राजे-महराजों को भगाओ अब तो करेगी जनता राज बहुत चल चुके पीछे-पीछे अब तो चलेंगे हम आगे आओ मिलकर करें उपाय भारत से बेकारी भागे अब तो हमको भारत का खोया सम्मान लौटना है फिर से अपने देश को हमको नंबर वन पर लाना है. (कृष्ण धर शर्मा, २०१३)

कोई टिप्पणी नहीं:

एक टिप्पणी भेजें