रविवार, 19 अक्तूबर 2014

“वो”

नवविवाहित पति, पत्नी बाज़ार से कुछ सामान खरीदकर हाथ में आइसक्रीम लिए बस स्टैंड आकर खाली पड़ी कुर्सियों में बैठ गए और बातें करने लगे.
उनकी बातें सुनकर ऐसा लग रहा था जैसे उन्हें घर में खुलकर बातें करने को समय न मिल पाता हो.
पत्नी और पति के बाजू में वोभी आकर बस का इन्तजार करते हुए बैठ गया और अनचाहे ही उनकी बातें सुनने लगा.
 पति, पत्नी बातें करने में इतने व्यस्त थे कि उन्होंने अपने गंतव्य को जाने वाली २ बसें भी छोड़ दी थी.
 पत्नी भी सुन्दर नाक-नक्श और आकर्षक व्यक्तित्व वाली थी और पति भी मगन होकर उसकी बातें सुन रहा था.
 इसी बीच पति को अचानक महसूस हुआ की पीछे से वोउसकी पत्नी को देखने का प्रयास कर रहा है और पत्नी की नजरें भी कई बार पति के पीछे बैठे वोकी तरफ जाती हुई दिखीं.
 अब माहौल प्रेममय न रहकर शंकामय हो चुका था.
 पति सहन न कर पाया और पत्नी और वोके बीच में कुछ इस तरह से बैठने की कोशिश करने लगा जिससे उनकी नजरें आपस में न टकरायें.
 उसकी यह हरकत देखकर पत्नी और वोसहित वहां पर बैठे कई लोगों के चेहरे पर शरारती मुस्कान आ गई जिसे देखकर पति की स्थिति हास्यमय हो चुकी थी.....
कृष्ण धर शर्मा 10.2014

कोई टिप्पणी नहीं:

एक टिप्पणी भेजें