रविवार, 12 जून 2016

देहाती लड़की का प्रेम


देहाती लड़की प्यार भी करती है
ठेठ देहातीपन से अपने प्रेमी को
नहीं आते हैं उसे नये ज़माने के
नाज-नखरे और ताम-झाम
रूठने-मनाने को ही समझती है वह प्रेम
या फिर प्रेमी के साथ बैठकर
बुनती है वह सुनहरे भविष्य के सपने
हाँ मगर उसके सपने भी होते हैं उतने ही बड़े
जो समां सकें प्रेमी की चादर में
भांप लेती है वह प्रेमी के चेहरे के भाव
खुश है या उदास या फिर है नाराज
चिंता भी करती है वह आजकल
क्योंकि अब अक्सर जाने लगा है
उसका प्रेमी पास ही के शहर घूमने
सुन रखा है उसने किसी के मुंह से
शहर की लड़कियां बड़ी तेज होती हैं
वह समझाना चाहती है अपने प्रेमी को
मगर यह सोचकर चुप रह जाती है कि
नाराज न हो जाये उसका प्रेमी
उसकी चिंता को लांछन समझकर
इसलिए करती है वह शिवजी की पूजा
पूरे मनोयोग से, जतन-विधान से
ताकि प्रेमी उसका बचा रहे
दुनिया की बुरी नजरों से
                  (कृष्ण धर शर्मा, २०१६)

कोई टिप्पणी नहीं:

एक टिप्पणी भेजें