मंगलवार, 30 अगस्त 2011

स्वर्ग का सुख

एक ग्रामीण ने महात्मा जी से प्रश्न किया कि "महाराज! स्वर्ग का सुख किसे मिलता है?".
महात्मा जी ने पास में ही खेल रहे एक बालक को देखकर कहा "इसे".
यह सुन कर ग्रामीण ने कहा "मैं आपका कहने का मतलब नहीं समझा प्रभु!.
तब महात्माजी बोले "जो बच्चे की तरह भोला और निश्छल है, वही स्वर्ग का सुख पाने योग्य है.

कोई टिप्पणी नहीं:

एक टिप्पणी भेजें