सामाजिक मुद्दों से सम्बंधित लेखों और विचारों का संग्रह

नमस्कार,

आज की इस व्यस्त और भागदौड़ भरी जिंदगी में हम बहुत कुछ पीछे छोड़कर आगे बढ़ते जाते हैं. अपने समाज में हो रहे बदलावों से या तो अनभिज्ञ रहते हैं या तो जान-बूझकर भी अनजान बन जाते हैं. हमारी यह प्रवृत्ति हमें अंतर्मुखी और स्वार्थी बनाती है, जो कि इस समाज के लिए हितकारी नहीं है. यहाँ पर कुछ ऐसे ही मुद्दों से सम्बंधित लेख और विचारों का संग्रह करने का मैंने प्रयास किया है. (कृष्णधर शर्मा- 9479265757) facebook.com/kdsharmambbs

रविवार, 24 मई 2009

इसे क्यों घूर रहे हो?

बंटी काफी देर से अपने मैरेज सर्टिफिकेट को घूर कर देख रहा था।

उसकी पत्नी बोली: इतनी देर से इसे क्यों घूर रहे हो?
.
.
.
.
बंटी: इसकी एक्सपायरी डेट ढूंढ रहा हूं।

रविवार, 17 मई 2009

ऐसे मिलेगा अच्छा जीवन

जर्मनी में एक बालक विलहेम पढ़ने से जी चुराता था। उसकी मां जब उसे स्कूल ले जाती तो वह नखरे करता। स्कूल में भी पढ़ता कम और शरारत ज्यादा करता रहता था। एक दिन स्कूल से लौटते हुए वह सड़क पर खेल रहे बच्चों को देखकर मां से बोला, 'आप मुझे स्कूल क्यों भेजती हैं? ये बच्चे भी तो बिना स्कूल गए ही बड़े हो रहे हैं। देखिए, ये कितने खुश हैं।'

मां चुपचाप सुनती रही। दूसरे दिन उसने विलहेम को घर के बाहर उग आए झाड़-झंखाड़ की ओर दिखाते हुए उससे पूछा,'बताओ बेटा, इन्हें किसने उगाया है?' विलहेम बोला, 'मां, ये तो खुद ही उग आते हैं और ओस, बारिश का पानी और सूरज की गर्मी पाकर बढ़ जाते हैं।' फिर मां ने घर में लगे गुलाब के पौधों को दिखाते हुए पूछा, 'और अब बताओ, ये फूल कैसे लग रहे हैं?' विलहेम ने जवाब दिया,'मां, ये तो बहुत ही सुंदर लग रहे हैं। इन्हें तो पिताजी रोज तराशते हैं और नियम से खाद-पानी भी देते हैं।'

मां विलहेम से यही सुनना चाहती थी। उसने तपाक से कहा, ' बिल्कुल ठीक। ये फूल इसलिए ज्यादा सुंदर हैं क्योंकि इन्हें प्रयास करके ऐसा बनाया गया है। जीवन भी ऐसा ही है। हमें अच्छा जीवन प्रयासों से ही मिलता है। इसके लिए अच्छी शिक्षा, बेहतर प्रशिक्षण और परिश्रम की जरूरत पड़ती है। तुम में और उन स्कूल न जाने वाले बच्चों में क्या फर्क है, यह तुम्हें आगे चलकर पता चलेगा।' मां की यह सीख विलहेम ने गांठ बांध ली। आगे चलकर इन्हीं विलहेम ने एक्स-रे की खोज की और भौतिकी में नोबेल पुरस्कार प्राप्त किया।

रविवार, 10 मई 2009

टीचर (गुस्से में): तुम कॉलेज क्यों आते हो?

संता: विद्या की खातिर सर।

टीचर: तो अब सो क्यों रहे थे?


संता: सर, आज विद्या आई नहीं है न!
टीचर: मारिया, मैप में ढूंढकर बताओ अमेरिका कहां है?
मारिया: यह रहा सर।

टीचर: शाबाश! ...बच्चो, अब आप लोग मुझे बताओ कि अमेरिका किसने खोजा?
सारे बच्चे एक साथ बोले: मारिया ने....

रविवार, 3 मई 2009

ठीक है, 20 दे दो।


लड़की (दुकानदार से): भैया, क्या आपके पास वैलंटाइंस डे का कोई ऐसा ग्रीटिंग कार्ड है, जिस पर लिखा हो, 'तुम मेरे पहले और आखिरी प्यार हो'?
दुकानदार: हां, है।
.
.
.
.
लड़की: ठीक है, 20 दे दो।