मंगलवार, 9 अगस्त 2011

सीखो उड़ना

जब इरादा कर ही लिया है
आगे बढ़ने का
तो पीछे मुड़कर देखना छोड़ दो
तोड़ दो सारी जंजीरें
नवयुग से नाता जोड़ लो
तितलियों की तरह सीखो उड़ना
जो स्वछंद विचरण करती हैं
छोड़ कर सारी चिन्तायें जो
उन्मुक्त होकर उड़ती हैं.(कृष्ण धर शर्मा,2000)

कोई टिप्पणी नहीं:

एक टिप्पणी भेजें