सामाजिक मुद्दों से सम्बंधित लेखों और विचारों का संग्रह

नमस्कार,

आज की इस व्यस्त और भागदौड़ भरी जिंदगी में हम बहुत कुछ पीछे छोड़कर आगे बढ़ते जाते हैं. अपने समाज में हो रहे बदलावों से या तो अनभिज्ञ रहते हैं या तो जान-बूझकर भी अनजान बन जाते हैं. हमारी यह प्रवृत्ति हमें अंतर्मुखी और स्वार्थी बनाती है, जो कि इस समाज के लिए हितकारी नहीं है. यहाँ पर कुछ ऐसे ही मुद्दों से सम्बंधित लेख और विचारों का संग्रह करने का मैंने प्रयास किया है. (कृष्णधर शर्मा- 9479265757) facebook.com/kdsharmambbs

रविवार, 19 अप्रैल 2015

अँधेरा-उजाला


अँधेरे से डरना एक सामान्य सी बात है
सदा से उजाले में ही रहने वालों के लिए
और इतनी ही सामान्य सी बात है
उजाले से डरने वालों के लिए भी
कि जिनका जीवन ही कट जाता है अंधेरों में
घबरा जाते हैं असहज हो जाते हैं
जो उजाले को देखकर ही
ठीक वैसे ही जैसे अँधेरे को देखकर हम
दोष इसमें किसी का नहीं है, न उनका न हमारा
ध्यान रखना होगा मगर हमें ही
कि उजाला कुछ इस तरह से
लाया जाए उनके जीवन में
जैसे कि चिमनी का उजाला
जैसे कि लालटेन का उजाला
इस तरह से नहीं कि जला दिया जाये
पूरे २०० वाट का बल्ब उनके सामने  
डर जाएँ वह अचानक से ही
और डरते रहें वह फिर हमेशा उजालों से
क्योंकि सदियों से अंधरे में रहने की आदत को
बदला नहीं जा सकता कुछ एक दिनों में

                          (कृष्ण धर शर्मा, २०१५)