सामाजिक मुद्दों से सम्बंधित लेखों और विचारों का संग्रह

नमस्कार,

आज की इस व्यस्त और भागदौड़ भरी जिंदगी में हम बहुत कुछ पीछे छोड़कर आगे बढ़ते जाते हैं. अपने समाज में हो रहे बदलावों से या तो अनभिज्ञ रहते हैं या तो जान-बूझकर भी अनजान बन जाते हैं. हमारी यह प्रवृत्ति हमें अंतर्मुखी और स्वार्थी बनाती है, जो कि इस समाज के लिए हितकारी नहीं है. यहाँ पर कुछ ऐसे ही मुद्दों से सम्बंधित लेख और विचारों का संग्रह करने का मैंने प्रयास किया है. (कृष्णधर शर्मा- 9479265757) facebook.com/kdsharmambbs

रविवार, 5 नवंबर 2017

स्वप्नदीप



कुटिलताओं और आशंकाओं के दौर में
सहजताओं और सरलताओं को बचाए रखना
भले ही इसमें अतिशय धैर्य की होगी आवश्यकता
मगर कुटिलों के कुचक्रों से बचने के लिए
सहनशीलता की पराकाष्ठा के भी पार
सहना होगा तुम्हें उस ताप को उस अग्नि को
जो तुम्हें तपकर अपनी आंच में बना देगी कुंदन 
फिर तुम हो जाओगे इतने खरे
कि तुम्हें खोटा साबित करने के
तमाम प्रयास होंगे असफल
बस, तब तक तुम्हें बचाकर रखने होंगे
अपने हृदय के किसी कोने में
आशाओं के कुछ सुनहरी लौ वाले स्वप्नदीप

                  (कृष्ण धर शर्मा, 22.2.2017)